आजीविका का मुख्य स्रोत-:

अचलपुर गाव में 150  परिवार  हे जिनमे सभी के घरो में मावा बनता हे .
4 घर मीणा परिवार के हे ,५ घर लोहार परिवार के हे , २ घर राजपूत  परिवार के हे , ८  घर रेदास परिवार के हे , १२ घर तेली परिवार के हे , ४९ घर गुर्जर परिवार के हे ,
४६ घर चोधरी परिवार के हे . ४० साल पहेले की बात हे की अचलपुर गाव के कुछ लोग गोड़े बेटकर मावा बेचने जाते थे  तथा साथ में बन्दुक भी रकते थे .
अचलपुर गाव में दीपावली के दुसरे दिन हर घर में मिटईया  विशेषकर बनायीं जाती हे . अचलपुर का मावा दुघ  प्रतापगढ़ जिले के अरनोद तहसील , दरियावाद तहसील . प्रतापगढ़ तहसील , में इस गाव का मावा प्रसिद हे . हर घर में गाय भेसे मिलेगी , अचलपुर पंचायत कका एक गाव हे जिसका नाम हे सालम्गढ़ जहा पर पशु मेला लगता हे , इस पशु मेले में निम्न  पशु का
क्रय विक्रय किया जाता हे  इस मेले में गाय भेसे  भेड़ ,बकरे  महुर्गे बेल  आदि का क्रय  – विक्रय किया जाता हे , इस मेले में दस हजार से लेकर ६० हजार तक की भेसे इस मेले क्रय विक्रय
किया जाता हे . प्रतापगढ़ जिले में इस गाव का मावा सबसे ज्यादा मावा आता हे , अचलपुर गाव के सभी लोग मावा गाव के ही कुछ लोग ही मावा लेकर बेचने जाते हे कुय्की सभी लोगो का मावा २-४ लोग ही लेजाते हे ,सभी लोगो का मावा ये २-४ लोग इकटा करके ले जाते हे , शादी ब्याव में भी लोग अचलपुर गाव आकर के मावे का ऑर्डर बुक करवाते हे .

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s